DISCLAIMER

Please note author of this blog is a devotee of shri asharam bapu ji, i am not a doctor or vaidhya so consult your doctor before use any herbal product. This blog is a non profit educational purpose only blog no any item sell from this blog you can buy any herbal asharam bapu ji products direct from bapu ji online store at here:-
subject to Pindwara ( india) jurisdiction only

Sunday, May 3, 2015

आश्रम के प्राकृतिक शर्बत ( Natural Sharbat of Saint Shri Asaram Bapu Ashram)

गर्मियों के लिये आश्रम के तीन प्रमुख शर्बत आज मैं एक प्रमुख कपंनी का गुलाब का शर्बत लेकर आया जिसका रोज अखबार में विज्ञापन आता था उस पर मैने ध्यान से पढा तो लिखा था
Commodity Name:- Synthetic Sharbat 
Ingredients:- Water Sugar and Natural or Artificial rose flavouring substances
उससे मेरा मन खराब हो गया क्यों कि गुलाब की खुशबू पैदा करने वाला कृत्रिम रसायन ( Artificial Chemical) सिटरोनेलोल कहलाता है। मैने सोचा जब आश्रम के प्राकृतिक शर्बत ( आश्रम के प्राकृतिक शर्बत ( Natural Sharbat of Saint Shri Asaram Bapu Ashram))उपलब्ध है तब कृत्रिम रासायनिक शर्बत क्यों पिये जावें इसलिये इस आलेख में आश्रम के तीन प्राकृतिक शर्बतों की जानकारी दी जा रही है।
 आसाराम बापू आश्रम के प्रमुख उत्पादों की सूची ( List of Asaram bapu products) के लिये यहां क्लीक करें 
आश्रम के तीन प्राकृतिक शर्बतों की जानकारी
1.अच्युताय गुलाब सर्बत (Achyutaya Gulab Sharbat)
लाभ : यह शरबत अत्यन्त सुमधुर और जायकेदार है प्यास की अधिकता, अन्तर्दाह,ग्लानी, अवसाद, भ्रम, चित्त की अस्थिरता,पेशाब की जलन, मूत्रकृच्छ, आँखों की जलनतथा सुर्खी आदि विकारो को दूर करता है ।शारीरिक व मानसिक थकावट को मिटानेवाला, तृप्तिकारक तथा आनंददायक है । 
See Also:-
Best Gulab water 
and 
Best Gulkand
2.अच्युताय ब्राह्मी शर्बत (Achyutaya Brahmi Sharbat)
 इस शर्बत के सेवन से ज्ञानतन्तु तथा दिमाग कि निर्बलता , यादशक्ति कि कमी , सिरदर्द , चक्कर आना, उन्माद, हिस्टीरिया(अपस्मार), वायु खून कि कमी इत्यादि दूर होकर दिमाग शांत होता हैं ! बुद्धिवर्धक तथा स्फुर्तिदायक इस शर्बत का उपयोग अति लाभदायक है
3.अच्युताय पलाश शर्बत(Achyutaya Palash Sharbat)
पलाश वृक्ष को आयुर्वेद ने ‘ब्रम्हवृक्ष’ नाम से गौरवान्वित किया है  पलाश रसायन ( वार्धक्य एवं रोगों को दूर रखने वाला ), नेत्रज्योति बढ़ाने वाला व बुद्धिवर्धक भी है यह मधुर व शीतल है! इसके सेवन से पित्तजन्य रोग शांत हो जाते हैं ! ग्रीष्म ऋतु की तपन से रक्षा होती है! कई प्रकार के चर्मरोग भी दूर होते है! प्रमेह (मूत्र-संबंधी विकारों ) में भी लाभदायी है